भारतीय क्रिकेटरों ने कुछ ऐसे असाधारण रिकॉर्ड अपने नाम किए हैं, जिन्हें तोड़ना काफी मुश्किल है.

सचिन तेंदुलकर, महेंद्र सिंह धोनी, राहुल द्रविड़, विराट कोहली, रोहित शर्मा जैसे खिलाड़ियों ने कई ऐसे रिकॉर्ड बना डाले हैं, जो इतने सालों बाद भी कायम हैं.

तो चलिए जानते है भारतीय क्रिकेटरों के नाम ऐसे कौनसे खास रिकॉर्ड है, जिन्हें तोड़ना नामुमकिन है।

धोनी ने 15 साल के लंबे करियर में प्रति पारी 1.363 आउट होने की दर से 195 स्टंपिंग की हैं. उनके नाम टेस्ट में 38, वनडे में 123 और टी20 में 34 हैं. 

तेंदुलकर ने अपने 24 साल के लंबे करियर में हजारों रन बनाए हैं और कई रिकॉर्ड तोड़े हैं. तेंदुलकर के नाम अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कुल 100 शतक हैं - टेस्ट में 51 और वनडे में 49. कोई उनके करीब भी नहीं है. 

वनडे क्रिकेट में किसी भी खिलाड़ी द्वारा सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर दर्ज किया है. लगभग आठ साल पहले श्रीलंका के खिलाफ 173 गेंदों में उनके 264 रन को तोड़ना सबसे असंभव आंकड़ा है. 

राहुल द्रविड़ पूर्व भारतीय कप्तान एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने अपने टेस्ट करियर के दौरान 31,258 गेंदों का सामना किया है. उन्होंने महज 164 मैचों में यह मुकाम हासिल किया. 

विराट कोहली का प्रभावशाली विश्व रिकॉर्ड 0 गेंदों के साथ विकेट लेने का है. 2011 के भारत बनाम इंग्लैंड टी20 मैच में इंग्लैंड के केविन पीटरसन लेग साइड वाइड गेंद खेलने की कोशिश करते हुए स्टम्प्ड हो गए थे, जिसे कोहली ने फेंका था.     

महेंद्र सिंह धोनी ने 2016 एशिया कप, 2013 आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी, 2011 आईसीसी वनडे, 2010 एशिया और 2007 आईसीसी टी20 जैसे अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों के लिए टीम को सबसे अधिक बार जीतने का विश्व रिकॉर्ड बनाया है. 

तो ये थे भारतीय क्रिकेटरों के नाम ऐसे खास रिकॉर्ड, जिन्हें तोड़ना नामुमकिन है। अगर आपको पोस्ट अच्छी लगी है तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिये।